Categories
Motivation

तबियत ख़राब है

जहॉ भक्ति के प्रेम में मुखौटों का हिजाब है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ आज़ादी का दिखावा है और सोच ही गुलाम है

वहॉ तबियत ख़राब है

इंसानो से ज़्यादा जहॉ मंदिरों से प्यार है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ पण्डे पुजारी या मौलवी आबाद है

वहॉ तबियत ख़राब है

किताबों से ज़्यादा जहॉ धर्म का स्थान है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ लहू के रंग में जहॉ जाति का वास है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ समाज में तरक़्क़ी की व्याख्या निराधार है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ देवता भी अनिष्ठा के लिये ज़िम्मेदार है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ कर्म के स्वरूप का खोखला निर्माण है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ खोखली आवाज़ में बुलन्द इंकलाब है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ प्रगतिशील खोलों में रूढ़िवादी खाल है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ भक्ति रूपी पढ़ा लिखा अंधविश्वास है

वहॉ तबियत ख़राब है

जहॉ भक्ति के भाव में भय का प्रहार है

वहॉ तबियत ख़राब है

समतामय प्रेम हो , निश्चल विश्वास हो

भक्ति का स्वरूप हो या कर्म का स्वरूप हो

हृदय करूणामय हो , भाव नि:स्वार्थ हो

सोच प्रगतिशील हो , प्रयोगात्मक का ज्ञान हो

धर्म सिर्फ़ कर्म हो , प्राथमिकता इंसान हो

अंधविश्वास विनाश हो , साक्षर समाज हो

रूढ़िवादी नष्ट हो , अंधभक्ति नष्ट हो

तबियत सुधार हो , जनकल्याण हो 💫💫💫

PS- Dedicated to those so called educated people who wants to bring the change in society and are afraid to raise their voices against orthodoxies.

Regards

The Lost Monk

Leave a Reply